नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम

PALASHIYACLASS
0

नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम narmada nadi ke kinare base tirth sthalo ke naam in hindi

नर्मदा नदी मध्य प्रदेश की माता मानी जाती है यह मध्य प्रदेश की रष्ट्रीय नदी है जिसे नर्मदा मैया भी कहा जाता है जिस प्रकार से भारत के लोग गंगा नदी की यात्रा करते है उसी प्रकार मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी की भी यात्रा की जाती है में anil palashiya आपका palashiyaclass.in में स्वागत करता हु आज हम इस लेख में नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम narmada nadi ke kinare base tirth sthalo ke naam in hindi से सम्बंधित जानकारी को देखेंगे .

 
नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम

Narmada Nadi ke Kinare Basa Shahar

आप अगर मध्य प्रदेश के निवासी है और नर्मदा नदी के बारे में नहीं जानते है तो आप कुछ नहीं जानते है नर्मदा नदी मध्य प्रदेश की ही नहीं बल्कि  यह भारत की भी महत्वपूर्ण नदी है नर्मदा नदी  भारत की 5 वी सबसे बड़ी नदी है जिस प्रकार से भारत में  गंगा नदी का  विशेष महत्त्व है उसे माता का दर्जा प्राप्त है उसी प्रकार मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी को माता के समान  माना जाता  है  वैसे हर जगह पर हर राज्य पर में सभी नदियों का विशेष माहत्व है उसी  प्रकार नर्मदा नदी को मध्य प्रदेश  में माता माना जाता है यहा नर्मदा नदी की परिक्रमा नर्मदा नदी का तीर्थ विशेष महत्त्व रखता है .


नर्मदा नदी के किनारे कौन कौन से तीर्थ स्थल है?

नर्मदा नदी  के उद्गम  से लेकर समापन तक सभी स्थल तीर्थ है नर्मदा नदी मध्य प्रदेश में कुल 1077 km बहती है जबकि नर्मदा नदी की कुल  लम्बाई 1312 km है नर्मदा नदी  के उद्गम से लेकर उसके समापन तक  में  करिव 16 जिले गुजरते है और NARMDA NADI  जहा - जहा बहती है उसके  तट के किनारे जो  नगर बसे है वे विशेष महत्त्व रखते है 

नर्मदा नदी  के किनारे तीर्थ 

  • अमरकंटक 
  • नेमावर 
  • होशंगाबाद 
  • मंडला 
  • भेडाघाट 
  • ओम्कारेश्वर 
  • मंडलेश्वर 
  • महेश्वर 
  • वावनगंजा 
  • बडवानी  
  • बुधनी 
  • जबलपुर 
  • डिंडोरी 
  • मान्धाता 
  • बडवाह 
  • राजपिप्लिया 
  • धर्मपुरी 


नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम


अमरकंटक 

अमरकंटक नगर मध्य प्रदेश का एक प्राचीन नगर है यहां से नर्मदा नदी का उद्गम हुआ है हम यूं कह सकते हैं कि अमरकंटक एक ऐसा स्थल है जहां से मध्य प्रदेश की तीन नदियों का उद्गम या जन्म माना जाता है अमरकंटक स्थल मेंकाल पर्वत पर बसा हुआ है मैकाल पर्वत की पहाड़ी पर बसा हुआ है यह विंध्याचल और सतपुड़ा पर्वत के बीच की एक मध्य श्रेणी है जहां से नर्मदा सोन और जोहिला नदी का उद्गम माना जाता है । अमरकंटक में कई प्राचीन मंदिर और ऋषि मुनियों की साधना स्थली रही है। 


नेमावर 


नेमावर मध्य प्रदेश का सबसे प्राचीन और भारत का प्रसिद्ध स्थल माना जाता है यहां पर प्रतिवर्ष मेला भी आयोजित होता है और सभी तीर्थ त्योहार पर नर्मदा नदी में स्थान करने के लिए लाखों श्रद्धालु आते हैं हम कह सकते हैं कि नर्मदा नदी का निर्माण स्थल मध्य प्रदेश का केंद्र बिंदु माना जाता है इसके तट पर प्राचीन मंदिर स्थित है 


होशंगाबाद 


होशंगाबाद मतलब नर्मदा पुरम भारत के मध्य प्रदेश प्रांत के नर्मदा पुरम जिले में स्थित एक प्रमुख शहर है नर्मदा पुर जिला मुख्यालय है यह नर्मदा नदी के तट पर बसा हुआ है यह शहर एक खूबसूरत शहर माना जाता है नर्मदा पुर स्थल विशेष घाटों के लिए महत्व रखता है यह नगर सतपुड़ा पर्वत पर बसा हुआ है यहां पर मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके डॉक्टर सीतारमन शर्मा एवं उनके परिवार के द्वारा सामाजिक उत्थान के कार्य भी किए गए हैं।


मंडला जिला 


मंडला जिला भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित है यह जबलपुर संभाग का हिस्सा माना जाता है यह तीन तरफ से नर्मदा नदी से घिरा हुआ है और मंडल के उत्तर पश्चिम की ओर से होकर गुजरने वाली नदी नर्मदा नदी मानी जाती है यह अपनी संस्कृति और समृद्धि और ऐतिहासिक विरासत के कारण मंडला शहर विशेष रूप से प्रसिद्ध है। 


भेड़ाघाट नर्मदा नदी


भेड़ाघाट नर्मदा नदी का हिस्सा माना जाता है जो भारत की सबसे बड़ी और पश्चिम की ओर बहने वाली नदी में से एक नदी है नर्मदा नदी लगभग 1312 किलोमीटर के मार्ग में भेड़ाघाट एकमात्र संस्थान है जहां नदी 30 मीटर गहरी खाई में गिरती है और संगमरमर की चट्टानों के बीच में बहती है। 


ओंकारेश्वर मांधाता नगरी 


ओंकारेश्वर मान्षता नर्मदा नदी के मध्य द्वीप पर स्थित है दक्षिण तट पर ममलेश्वर प्राचीन नाम अमरेश्वर मंदिर स्थित है ओंकारेश्वर में ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के साथ ही ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग भी स्थित है। 


मंडलेश्वर नर्मदा नदी 


मंडलेश्वर की स्थापना पंडित मंडल मिश्रा ने की थी या महेश्वर से 8 किलोमीटर की दूरी पर नर्मदा नदी के तट पर स्थित है शिवराज सिंह जी चौहान मुख्यमंत्री के शासन में इस पवित्र नगर भी घोषित किया था। शांत सौंदर्य में बसा शहर अपने मंदिर किलो किला परिसर और स्नान घाटों के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है यहां पर साड़ियां अपने पुष्प डिजाइन के लिए पूरे देश में प्रसिद्ध मानी जाती है। 


महेश्वर नर्मदा नदी 


नर्मदा नदी के किनारे बसाया शहर अपने बहुत ही सुंदर घाट तथा माहेश्वरी साड़ियों के लिए प्रसिद्ध है। महेश्वर मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के खरगोन जिले में बस एक शहर है। 


बावनगंज नर्मदा नदी।


52 गंज जिसका अर्थ है भाग 1 गज भारत के दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले की एक प्रसिद्ध जैन तीर्थ स्थल है नर्मदा नदी के दक्षिण में लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इसका मुख्य आकर्षण भगवान ऋषभदेव की दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मेघालिथिक प्रतिमा है

FCQ ;- 

1;- नर्मदा नदी कहां से निकलती है

ANS ;- नर्मदा नदी मध्य प्रदेश के अमरकंटक पहाड़ी मेकाल पर्वत में है 

2;- नर्मदा नदी की लंबाई कितनी है

ANS ;- नर्मदा नदी की लम्बाई 1312 km है जो मध्य प्रदेश 1077 km है 

3;- मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी की लंबाई कितनी है

ANS ;- मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी की लम्बाई 1077 km है 

4;- नर्मदा नदी किस राज्य में है

ANS ;- नर्मदा नदी मध्य प्रदेश , महारष्ट्र , और गुजरात में बहती है 

5;- नर्मदा का असली नाम क्या है?

ANS ;- नर्मदा नदी का नाम रेवा नदी है 

6;- नर्मदा नदी किसकी बेटी थी?

ANS ;- नर्मदा नदी भगवान् शिव की बेटी है 


 गंगा नदी की सहायक नदी 


दोस्तों इस लेख में हमने आपके लिए नर्मदा नदी से सम्बंधित जानकारी आपके सामने रखी है जिससे आपको नर्मदा नदी की जानकारी मिलेगी narmada nadi ke kinare basa shahar नर्मदा नदी के किनारे बसे तीर्थ स्थलों के नाम narmada nadi ke kinare base tirth sthalo ke naam in hindi नर्मदा नदी के तीर्थ स्थल से सम्बंधित जानकरी आपको देखने को मिलेगी .

Tags

Post a Comment

0 Comments
Post a Comment (0)
To Top